पुराने घरो के दरवाज़े

locked door

 

पुराने घरो के दरवाज़े इतने खूबसूरत क्यू लगते है?
उन पर लगे वो पुराने ताले
वो पुराने खटखटाने वाले डोरबेल्स
उन बंद दरवाज़ो के पीछे, वक़्त भी शायद अरसे से नही गुज़रा

वो दरवाज़े भी क्या बात करते है आपस में?
चौखट पर तो अब जाते-जाते कोई बातें नही करता
ना ही रात को दहलीज़ लांगकर कोई
चुप-चाप कमरे में दौड़ जाता है

अब बचा ही कौन है?
बरसात भी अब घर को छलनी कर जाती है
पहले तो सिर्फ़ लीकेज होती थी

उन बंद दरवाज़ो की सीडियो पर बैठकर
कोई बा स्वेटर नही बुनता
किसिका इंतेज़ार नही करती है बंद खिड़कियाँ

पर उस खटखटाने वाले डोरबेल को बजाओ
तो अब भी लगता है
जैसे उस घर में कोई रहता है
उन सीडियो पर बैठकर
जीवन जैसे छोटी लगने लगती है

उस ताले को हवा ही शायद तोड़ दे किसी दिन

Leave a comment

Filed under Uncategorized

रहने दो

 

ये झूठ-सच की उलझन भी बेकार है

तुम्हारी पुकार बेवजह ही थी
और बेसमय मतलब ढूँढना भी बेवकूफी ही है
रहने दो
अब छोड़ दिया उन बातों को
अब नही उठती जब रात को तुम पुकारते हो

रुक जाने की,
तो बात ही नही थी

ये बारिश होते-होते भी नही होती
पन्नो को फाड़ देने से बात ख़त्म हो जाती है क्या?

इतनी बातें, इतनी सारी बातें
सब झूठ ही तो है

बुरी आदत लग रही है

टूटी पड़ी है खिड़कियों की आवाज़े
और नींद अब टूटती नही

तुम पुकारते नही अब?
या अब मैं उठती नही?

रहने दो
बारिश होते-होते नही होती

बुरी आदत लग गयी है

 

 

Leave a comment

Filed under Uncategorized

“Eternal Sunshine of the Spotless Mind”

eternal-sunshine

 

वो Eternal Sunshine of the Spotless Mind वाली सुविधा मिल जाती

तो कितना अच्छा होता ना?

आज के सब मुश्किलो को भुला देती

आज के क्या, हर रोज़ के

 

कितनी बातें यूँ ही निगल जाती हूँ रोज़

याद तो है वो सब,

पर याद उन्हे करती नही

घर से गुस्सा होकर निकल जाना

उस ऑटो्वॅले से हुई सुबह सुबह बहेस

बचपन की वो चोट,

जब कोई ना था पास मरहम लगाने

तुम्हारा उठकर चले जाना बेसमय

मेरा उसे भी भुला देना

 

भूलना चाहूं भी तो कैसे भूल जाऊँ?

वो पहली रात जब नींद ना आई,

बस नही आई

अब वजह कहा ढूँदने जाऊं?

याद नही रहता था वो रास्ता

या फिर भुलाकर जाते थे हम उसे?

उसी गली में कैसे खो जाते थे?

 

नींद नही आती अब भी कभी कभी

उसे भी याद नही करती

जैसे याद नही करूँगी

आज फिर तुम्हारा उठकर चले जाना बेसमय

 

वो Eternal Sunshine of the Spotless Mind वाली सुविधा मिल जाती

तो कितना अच्छा होता ना?

भुला देती सब मुश्किलो को

जो ज़हेन में खुद को दफ़ना देते है

 

सुविधा थी भी क्या वो?

भूल कर भी तो ना भूल पाए

भूल कर भी क्या बदला?

ज़हेन में दबी हुई सब बातें

सभी बातें याद तो है

पर याद उन्हे करती नही,

याद उन्हे करती नही

 

Leave a comment

Filed under Uncategorized

बात नहीं करने से ही बात बढ़ती है

बात नहीं करने से ही बात बढ़ती है,
ये भी नहीं मालूम तुम्हें?

आज बात कर लो?
कुछ तो कहो
चलो, इस मायूस दुनिया को ही कोस लो
आखिर ये है ही इतनी ज़ालिम
और बिना तुम्हारे बिलकुल नीरस

क्यूँ नहीं बोलते कुछ?
क्यूँ एसे खामोश बैठे हो?
जानती हूँ कि कुछ तुम्हें परेशान कर रही है
क्या बात है?

और कितनी बातें तुम्हारी इस चुप्पी से करू?
कितने बरस हुए तुम्हारी आवाज़ सुने
खुद के इतने क्यूँ हो गए हो
कि भूल गए हो
मेरे असतित्व को

बात नहीं करने से ही बात बढ़ती है,
इतनी सी बात तो मालूम होगी तुम्हें

Leave a comment

Filed under Uncategorized

फासले

130104_POD_Taiwan

 

तुम्हे आज भी गाड़ियों के होर्न परेशान नहीं करते,
और मैं आज भी उन्हें सुनते ही अपने कान ढक लेती हूँ

तुम्हारी सुबह की चाय की आदत आज भी नहीं गयी
और मैं?
शाम को कौफी  बिना कुछ ठीक नहीं लगता मुझे
(मेरी सुबह तो अजीब तरह से शुरू होती है,
कभी चिड़िया की आवाज़,
कभी तुम्हारे होने की कल्पना
सपने में भी तुम्हारे ना होने को मान लेती हूँ)

मैं अब भी सवाल पूछती हूँ,
और तुम अब भी जवाबों की परछियाँ आँखों से लिख जाते हो

सब कुछ बदल जाएगा?
पर कुछ भी तो नहीं बदला।

2 Comments

Filed under Uncategorized

फैज़ के नाम

The poem alternates with the nazm “Mujhse pehli si mohobbat” by Faiz Ahmed Faiz.

 

 

मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग
मैं ने समझा था कि तू है तो दरख़्शाँ है हयात
तेरा ग़म है तो ग़म-ए-दहर का झगड़ा क्या है

***

मिलते थे पहले
मोहब्बत के प्यालों में
तुम और तुम्हारा ग़म
प्याले लेकर फिरती हूँ अब न जाने कितने
न तुम मिले न ग़म मिला
प्याले से मोहब्बत का रंग भी उतर चला

***

तेरी सूरत से है आलम में बहारों को सबात
तेरी आँखों के सिवा दुनिया में रक्खा क्या है
तू जो मिल जाए तो तक़दीर निगूँ हो जाए
यूँ न था मैं ने फ़कत चाहा था यूँ हो जाए

***

रहते गर हम उस जहान में
जहाँ लालटेन की लौ बुझ जाए
तो तारों में देख लेते मोहब्बतों को
हिज्र की सुरत के आगे

***

और भी दुख हैं ज़माने में मोहब्बत के सिवा
राहतें और भी हैं वस्ल की राहत के सिवा

***

पर यहाँ इस स्ट्रीट लैम्प की मरम्मत कौन करे
वस्ल की राहत के तारें कौन गिने
लौ बुझती है जलने से पहले
मोहब्बत की कीमत यहाँ कौन तय करे

***

अन-गिनत सदियों के तारीक बहीमाना तिलिस्म
रेशम ओ अतसल ओ किम-ख़ाब में बुनवाए हुए
जा-ब-जा बिकते हुए कूचा-ओ-बाज़ार में जिस्म
ख़ाक में लुथड़े हुए ख़ून में नहलाए हुए

***

बाज़ारों में फिरते है यहाँ सब प्यालें लेकर
रेशम ओ अतसल पर अब रंग नहीं चढ़ते
तुम मिलते तो शायद देखते
बेरंग प्यालों के ग़म ढलते

***

जिस्म निकले हुए अमराज़ के तन्नूरों से
पीप बहती हुई गलते हुए नासूरों से
लौट जाती है उधर को भी नज़र क्या कीजे
अब भी दिलकश है तिरा हुस्न मगर क्या कीजे

***

वहाँ रहते तो समझते
आफ़्ताब से बेहतर नहीं है चाँदनी
बरबाद तो किया हमें तारों ने
क्या कीजे, याद फिर आता है वो जहान
जिसे कभी देखा ही नहीं

***

और भी दुख हैं ज़माने में मोहब्बत के सिवा
राहतें और भी हैं वस्ल की राहत के सिवा
मुझ से पहली सी मोहब्बत मिरी महबूब न माँग

***

वस्ल की राहत गिरवी रक्खी है उस बाज़ार में
तेरे ग़म-ए-तिलिस्म के बदले
मुझ से पहली सी मोहब्बत मेरे महबूब ना माँग
दरख़्शाँ है हयात, तूने दी है बहारों को सबात
अब भी दिलकश है तेरा हुस्न मगर क्या कीजे

 

 

Leave a comment

Filed under Uncategorized

भूलने की बीमारी

12764588_10208790267017276_4579279302494805157_o

कहना था कुछ,                                                                                                                                                     बहुत कुछ                                                                                                                                                              पर जो भी कहना था                                                                                                                                                सब खो गया है                  

न जाने कहा रहते है                                                                                                                                          अनकही सब बातें                                                                                                                                                 कौन उन्हें सुबह की चाय देता है?                                                                                                                              ढेरों में पलते है और                                                                                                                                            पहाड़ों से ऊँचे होकर भी छुप जाते है

क्या तुम्हे पता है?                                                                                                                                                  कहा मिलेंगे वो सब फिर से                                                                                                                                  कहना था कुछ                                                                                                                                                      क्या कहना था?                                                                                                                                                    याद क्यू नहीं अब?

वो सब अनकही बातें                                                                                                                                           आखिर गई कहा?                                                                                                                                                     क्या किसी ने कह दिया उन्हें?                                                                                                                                 क्या उन्हें सुन लिया किसी ने?

न जाने कहा घर बसा लिया है उन्होंने                                                                                                                             न जाने किस ज़मीन पर अब बिस्तर बिछाते है                                                                                                         क्या उन्हें भी नींद कुछ कम आती है?                                                                                                                      

उन्हें वापस बुला दो                                                                                                                                              कहना था मुझे कुछ                                                                                                                                              बहुत कुछ                                                                                                                                                           समेट कर रखा था                                                                                                                                                  सारी अनकही बातों को                                                                                                                                           किधर गए वो?                                                                                                                                                       क्या वो सब खो गए?

Leave a comment

Filed under Uncategorized